स्वास्थ विभाग का खेल : उच्च न्यायालय और विभागीय आदेश की बेतिया सीएस कार्यालय में हो रही अवहेलना

पश्चिम चम्पारण के बाजार बेलवा गांव में एक दर्जन बच्चे हुए अपाहिज़

बेतिया (ब्रजभूषण कुमार) : पश्चिम चम्पारण जिला के नरकटियागंज अनमण्डल अन्तर्गत साठी थाना क्षेत्र के बाज़ार बेलवा में 01 वर्ष से 07 वर्ष तक के एक दर्ज़न बच्चे अपाहिज़ जैसे हो गए हैं। इसकी सूचना बाद स्वास्थ्य सचिव लोकेश कुमार सिंह की पहल पर जिला के असैनिक शल्य चिकित्सक (सिविल सर्जन) डॉ अरूण कुमार सिन्हा ने जाँच दल भेजकर जाँच कराया। जिसमें सद्दाम हुसैन की तीन वर्षीय पुत्री आलिया खातून, असरफ अली की छह वर्षीय पुत्री सहिदा खातून, एक वर्षीय पुत्र साजिद अली, मो. लालबाबू के दो वर्षीय पुत्री जिया फातिमा, मनोज शर्मा की पुत्री रागनी कुमारी 7 वर्ष, साहेब साहीन की पुत्री तंजीला खातून 7 वर्ष, अनवर हुसैन की पुत्री जफरीन खातून 5 वर्ष, संजय शर्मा का पुत्र सुमित कुमार 2 वर्ष 6 महीना,शमीम हैदर का पुत्र रेहान हैदर 5 वर्ष , नसीम अख्तर का पुत्र इमरान हैदर 5 वर्ष, सरफुद्दीन का पुत्र सलमान 2 वर्ष, मो. इरफान का पुत्र मुतिसर 1 वर्ष को पीड़ित व रोगग्रस्त पाया गया। बाज़ार बेलवा के सभी बच्चे मेंटली रेटायर्ड एवं सीपी ग्रस्त हैं। अपर उपाधीक्षक सह सहायक, अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी सह संचारी रोग(यक्ष्मा), राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल बेतिया व प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, अनमण्डलीय अस्पताल नरकटियागंज ने टीम के साथ अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र साठी के डॉ जीतेन्द्र भी गाँव का दौरा कर स्थिति से अवगत हुए। अशरफ अली के दोनों बच्चों सहिदा खातून व साज़िद अली का सामान्य प्रसव से घर में जन्म हुआ। दोनों बच्चे जन्म के समय एक्टिव (सक्रीय) रहे, उपर्युक्त जानकारी उनकी माँ ने चिकित्सकीय जाँच टीम को दिया। शेष 10 बच्चे निजी/सरकारी अस्पताल में जन्मे हैं। यह जानकारी मिली कि उपर्युक्त क्षेत्र का अधिकांश प्रसव घरों में होता है। चिकित्सकीय प्रतिवेदन के अनुसार कुछ बच्चे जन्म के आधा घंटा, कुछ दो घण्टा और कुछ 15 दिन बाद रोने लगे। डॉ शिवकुमार ने वरीय पत्रकार अवधेश कुमार शर्मा को बताया कि टीकाकरण के संबंध में इरफ़ान की बेटी मुतीसर 1 वर्ष का टीकाकरण नहीं हुआ है। अन्य सभी बच्चों का टीकाकरण विधिवत हुआ है। सभी माताओं का एएनसी सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों में किया गया है। सभी को टीटी का टीका भी लगा हुआ है। उपर्युक्त जाँच टीम ने परामर्श दिया है कि उपर्युक्त बच्चों को शिशु रोग विशेषज्ञ की समुचित चिकित्सा उपलब्ध कराएं। जिससे निकट भविष्य में बच्चे ऐसे रोग से ग्रस्त नहीं हों।

पश्चिम चम्पारण के बाजार बेलवा गांव में एक दर्जन बच्चे हुए अपाहिज़

बेतिया (ब्रजभूषण कुमार) : पश्चिम चम्पारण जिला के नरकटियागंज अनमण्डल अन्तर्गत साठी थाना क्षेत्र के बाज़ार बेलवा में 01 वर्ष से 07 वर्ष तक के एक दर्ज़न बच्चे अपाहिज़ जैसे हो गए हैं। इसकी सूचना बाद स्वास्थ्य सचिव लोकेश कुमार सिंह की पहल पर जिला के असैनिक शल्य चिकित्सक (सिविल सर्जन) डॉ अरूण कुमार सिन्हा ने जाँच दल भेजकर जाँच कराया। जिसमें सद्दाम हुसैन की तीन वर्षीय पुत्री आलिया खातून, असरफ अली की छह वर्षीय पुत्री सहिदा खातून, एक वर्षीय पुत्र साजिद अली, मो. लालबाबू के दो वर्षीय पुत्री जिया फातिमा, मनोज शर्मा की पुत्री रागनी कुमारी 7 वर्ष, साहेब साहीन की पुत्री तंजीला खातून 7 वर्ष, अनवर हुसैन की पुत्री जफरीन खातून 5 वर्ष, संजय शर्मा का पुत्र सुमित कुमार 2 वर्ष 6 महीना,शमीम हैदर का पुत्र रेहान हैदर 5 वर्ष , नसीम अख्तर का पुत्र इमरान हैदर 5 वर्ष, सरफुद्दीन का पुत्र सलमान 2 वर्ष, मो. इरफान का पुत्र मुतिसर 1 वर्ष को पीड़ित व रोगग्रस्त पाया गया। बाज़ार बेलवा के सभी बच्चे मेंटली रेटायर्ड एवं सीपी ग्रस्त हैं। अपर उपाधीक्षक सह सहायक, अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी सह संचारी रोग(यक्ष्मा), राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल बेतिया व प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, अनमण्डलीय अस्पताल नरकटियागंज ने टीम के साथ अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र साठी के डॉ जीतेन्द्र भी गाँव का दौरा कर स्थिति से अवगत हुए। अशरफ अली के दोनों बच्चों सहिदा खातून व साज़िद अली का सामान्य प्रसव से घर में जन्म हुआ। दोनों बच्चे जन्म के समय एक्टिव (सक्रीय) रहे, उपर्युक्त जानकारी उनकी माँ ने चिकित्सकीय जाँच टीम को दिया। शेष 10 बच्चे निजी/सरकारी अस्पताल में जन्मे हैं। यह जानकारी मिली कि उपर्युक्त क्षेत्र का अधिकांश प्रसव घरों में होता है। चिकित्सकीय प्रतिवेदन के अनुसार कुछ बच्चे जन्म के आधा घंटा, कुछ दो घण्टा और कुछ 15 दिन बाद रोने लगे। डॉ शिवकुमार ने वरीय पत्रकार अवधेश कुमार शर्मा को बताया कि टीकाकरण के संबंध में इरफ़ान की बेटी मुतीसर 1 वर्ष का टीकाकरण नहीं हुआ है। अन्य सभी बच्चों का टीकाकरण विधिवत हुआ है। सभी माताओं का एएनसी सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों में किया गया है। सभी को टीटी का टीका भी लगा हुआ है। उपर्युक्त जाँच टीम ने परामर्श दिया है कि उपर्युक्त बच्चों को शिशु रोग विशेषज्ञ की समुचित चिकित्सा उपलब्ध कराएं। जिससे निकट भविष्य में बच्चे ऐसे रोग से ग्रस्त नहीं हों

सवांददाता -रिशु सिंह भारत न्यूज

Related posts

Leave a Comment