हर भारतीय को पता होने चाहिए ये 5 कानूनी अधिकार

भारत |भारत में बहुत सारे लोगों को अपने अधिकारों के बारे में नहीं पता होता है इसलिए बहुत बार उनको कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है और वह बेवजह परेशान किए जाते हैं|

हमारे देश में कानूनन कुछ ऐसी हकीक़तें हैं, जिसकी जानकारी हमारे पास नहीं होने के कारण हम अपने कानूनी अधिकार पाने से मेहरूम रह जाते हैं, तो चलिए आज ऐसे ही कुछ 5 कानूनी अधिकार की जानकारी आपको देते है|

महिलाओं की गिरफ्तारी नहीं हो सकती|

सेक्शन 46 के तहत शाम 6 बजे के बाद और सुबह 6 के पहले भारतीय पुलिस किसी भी महिला को गिरफ्तार नहीं कर सकती, फिर चाहे गुनाह कितना भी संगीन क्यों ना हो. अगर पुलिस ऐसा करते हुए पाई जाती है, तो गिरफ्तार करने वाले पुलिस अधिकारी के खिलाफ शिकायत दर्ज की जा सकती है|

इससे उस पुलिस अधिकारी की नौकरी खतरे में आ सकती है|

पुलिस अफसर आपकी शिकायत लिखने से मना नहीं कर सकता|

आईपीसी के सेक्शन 166ए के अनुसार कोई भी पुलिस अधिकारी आपकी कोई भी शिकायत दर्ज करने से इंकार नही कर सकता| अगर वह ऐसा करता है, तो उसके खिलाफ वरिष्ठ पुलिस दफ्तर में शिकायत दर्ज कराई जा सकती है| अगर वह पुलिस अफसर दोषी पाया जाता है| तो उसे कम से कम 6 महीने से लेकर 1 साल तक की जेल हो सकती है या फिर उसे अपनी नौकरी गंवानी पड़ सकती है|

कोई भी हॉटेल चाहे वो 5 स्टार ही क्यों ना हो ये सुविधा देगा फ्री|

इंडियन सीरीज एक्ट, 1887 के अनुसार आप देश के किसी भी हॉटेल में जाकर पानी मांगकर पी सकते है और उस हॉटल का वाश रूम भी इस्तेमाल कर सकते हैं. हॉटेल छोटा हो या 5 स्टार, वे आपको रोक नही सकते. अगर हॉटेल का मालिक या कोई कर्मचारी आपको पानी पिलाने से या वाश रूम इस्तेमाल करने से रोकता है| तो आप उन पर कारवाई कर सकते हैं. आपकी शिकायत से उस हॉटेल का लाइसेंस रद्द हो सकता है|

गर्भवती महिलाओं को सुरक्षा

गर्भवती महिलाओं को अचानक नौकरी से नहीं निकाला जा सकता|  मालिक को पहले तीन महीने की नोटिस देनी होगी और प्रेगनेंसी के दौरान लगने वाले खर्चे का कुछ हिस्सा देना होगा. अगर वो ऐसा नहीं करता है, तो उसके खिलाफ सरकारी रोज़गार संघटना में शिकायत कराई जा सकती है| इस शिकायत से कंपनी को जुर्माना भरना पड़ सकता है.

सिलेंडर फटने से जान-माल के नुकसान पर 40 लाख रूपये तक का बीमा|

पब्लिक लायबिलिटी पॉलिसी के तहत अगर किसी कारण आपके घर में सिलेंडर फट जाता है और आपको जान-माल का नुकसान झेलना पड़ता है| तो आप तुरंत गैस कंपनी से बीमा कवर क्लेम कर सकते है. आपको बता दे कि गैस कंपनी से 40 लाख रूपये तक का बीमा क्लेम कराया जा सकता है| अगर कंपनी आपका क्लेम देने से मना करती है या टालती है, तो इसकी शिकायत की जा सकती है. दोषी पाये जाने पर गैस कंपनी का लाइसेंस रद्द हो सकता है|

Related posts

Leave a Comment