भारत- तिब्बत सहयोग मंच की वर्चुअल बैठक संपन्न हुई

इस कठिन समय में लोगों की सेवा करना हम लोगों की जिम्मेदारी है: पंकज गोयल
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक एवं भारत- तिब्बत सहयोग मंच के मार्गदर्शक माननीय इंद्रेश कुमार जी के मार्गदर्शन में संचालित मंच की एक वर्चुअल बैठक मंच के उपाध्यक्ष मास्टर मोहन लाल जी की अध्यक्षता एवं राष्ट्रीय महामंत्री पंकज गोयल जी के नेतृत्व में संपन्न हुई। बैठक का संचालन राष्ट्रीय मंत्री श्री नरसिंह मेंगजी जी ने किया। बैठक की अध्यक्षता करते हुए मास्टर मोहन लाल जी ने कहा कि इस कोरोना काल में हम सभी लोगों को मिलकर देश में सकारात्मक वातावरण का निर्माण करने के लिए कार्य करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस कठिन समय में मंच के कार्यकर्ताओं को अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देकर देशवासियों के मन में आशा, उत्साह एवं ऊर्जा का संचार करना है।

वर्चुअल बैठक में कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन करते हुए राष्ट्रीय महामंत्री श्री पंकज गोयल जी ने कहा कि समय बहुत कठिन है।इसी कठिन समय में हम सभी को परिवार के एक सदस्य के रूप में मिलकर कार्य करना है और मंच के मार्गदर्शक माननीय इंद्रेश कुमार जी के मार्गदर्शन में हमें मंच के उद्देश्यों को मंजिल तक पहुँचाना है। श्री गोयल ने कहा कि तिब्बत की आज़ादी के लिए पूरे विश्व में लगभग तीन सौ संस्थाएँ कार्यरत हैं। इन सभी संस्थाओं में भारत- तिब्बत सहयोग मंच का नाम बहुत ही प्रमुखता से लिया जाता है। उन्होंने कहा कि परम पावन दलाई लामा जी कहा करते हैं कि हमें शांतिपूर्ण रास्तों पर चलकर चीन के नापाक मंसूबों को ध्वस्त करना है। श्री गोयल ने कहा कि इस कठिन समय में लोगों की सेवा करना हमारी ज़िम्मेदारी है। इस कार्य में कार्यकर्ता तन, मन एवं धन से लगे हैं। हमें नकारात्मक माहौल से स्वयं बचना है और अन्य लोगों को भी बचाना है। आज वामपंथी विचारधारा वाले एवम उनके सहयोगी भारत सहित पूरी दुनिया मे नकारात्मक वातावरण बनाकर देश की छवि धूमिल करने का प्रयास कर रहे हैं । पूरी दुनिया में अपने देश की मान- प्रतिष्ठा लगातार बढ़ती रहे, इस बात को लेकर मंच के कार्यकर्ताओं को निरंतर सजग एवं सतर्क रहना है।
श्री पंकज गोयल ने कहा तिब्बत की आज़ादी के लिए अबतक 167 तिब्बती युवाओं ने आत्मबलिदान किया । 29 अप्रैल 1998 को पहला बलिदान हुआ इसलिए तिब्बती इस दिन को शहीदी दिवस के रूप में मनाते हैं। भारत तिब्बत सहयोग मंच और तिब्बती युवा कांग्रेस (TYC) संयुक्त रूप से पूरे देशभर में इन 167 शहीदों के लिये कार्यक्रमों का आयोजन करेगा।
मंच के राष्ट्रीय सचिव एवं संगठन मामलों के प्रभारी श्री राम किशोर पसारी जी ने कहा कि इस कोरोना काल में हम लोगों को संगठन का कार्य गंभीरता से करते हुए कोरोना से पीड़ित लोगों की सेवा एवं सहायता करनी है। श्री पसारी जी ने कहा कि जब हम कार्यक्रम करेंगे तो हमारी संख्या भी बढ़ेगी क्योंकि कार्यक्रमों के माध्यमों से नये- नये कार्यकर्ता जुड़ते हैं। संगठन के लिये सबसे ज़रूरी बात यह है कि लोग आपस में जुड़े रहें। जब हम एक दूसरे से जुड़े रहेंगे तभी एक- दूसरे के दुख – सुख की जानकारी मिलती रहेगी। जब जानकारी मिलेगी, तभी किसी समस्या का समाधान भी हो सकता है। उन्होंने कहा कि जब हम कोई बैठक करते हैं तो उसमें जो विषय तय होते हैं उस पर हमें गंभीरता से अमल करना चाहिए।

राष्ट्रीय सचिव एवं कार्यक्रम मामलों के प्रभारी श्री विजय शर्मा जी ने कहा कि समय बहुत नाजुक है।अभी तो हम सभी लोगों की प्राथमिकता यह होनी चाहिये कि हम लोग एक दूसरे का कुशल क्षेम पूछें। कार्यकर्ताओं एवं आम लोगों का कुशल क्षेम यदि इस समय पूछा जाएगा तो उनका मनोबल बढ़ेगा और कोरोना नामक दानव से लड़ने में मंच लोगों का सहारा बनेगा। इस समय हमें लोगों को मनोवैज्ञानिक रूप से मज़बूत करना है।इंसानियत ,मानवता एवं मनुष्यत्व के लिए कार्य करना है। श्री शर्मा ने कहा कि हमारे लिए इस समय सेवा परमो धर्मः के रास्ते पर चलना ही सबसे उचित होगा।
मंच के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष श्री रविंद्र गुप्ता ने कहा कि इस कोरोना काल में लोगों की सेवा करते हुए भविष्य में हमें यह सोचना और विचार करना है कि हमारा अपना अलग से राष्ट्रीय कार्यालय बने, जहाँ पूरे देश से जब कार्यकर्ता आयें तो वहाँ रुक सकें। श्री गुप्ता ने कहा कि अभी तो लोग कोरोना पीड़ितों की सेवा में लगे हुए हैं, बाद में निधि संग्रह के संदर्भ में विस्तृत रूप से बातचीत की जाएगी।

इस अवसर पर पूरे देश में एवं मंच के कार्यकर्ताओं एवं उनके परिजनों में जो भी लोग कोरोना नामक वैश्विक महामारी के कारण बैकुंठ लोक को चले गए, उनकी आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रखा गया और ईश्वर से प्रार्थना की गई कि वह अपने श्री चरणों में स्थान दे।
बैठक में अनेक कार्यकर्ताओं ने अपने सुझाव रखे और कोरोना काल में किये जा रहे कार्यों का ब्यौरा भी रखा।
इस बैठक में मंच के संरक्षक आदरणीय आचार्य याशी पुछोक जी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री आर. के. ख़िरमे जी, श्री चंद्रशेखर साहू जी, स्वामी दिव्यानन्द जी महाराज, राष्ट्रीय मंत्री श्री शिवकांत तिवारी जी, महिला अध्यक्षा श्रीमती रेखा गुप्ता जी, महिला महामंत्री- श्रीमती सरिता तोमर जी, ड़ा पूनम मानिक जी, प्रीति सागर जी, युवा अध्यक्ष डॉ प्रवीण कुमार जी, युवा महामंत्री एडवोकेट अर्पित मुदगल जी गिरीश साहू जी, कार्यालय प्रमुख श्री वीरेन्द्र अग्रवाल जी, सह प्रमुख श्री जयनारायण जी, सह प्रचार प्रमुख श्री श्याम राय जी, सोशल मिडिया प्रमुख श्री मोहित जोशी जी, एवम कार्यकारिणी सदस्य श्री सुनील मनोचा जी, श्री बालेश्वर भारती जी, श्री राजेन्द्र शर्मा जी, श्री अरुण बंसल जी, श्री संजीव पुंडीर जी, श्री सोमेश पाण्डे जी, ड़ा सचिन तिवारी जी, श्री अमृत भार्गव जी, श्री के.पी. मिश्रा जी, क्षेत्र संयोजक- श्री अनिल श्रीवास्तव बाबा जी, श्री कौशल शर्मा जी, श्री राजेन्द्र कामदार जी, श्री उमेश देशमुख जी, श्री इनिथ कुमार जी, श्री अनिल श्रीवास्तव जी(पटना), श्रीमती सबिता चोधरी जी, श्री खण्डू थुंगन जी, श्री देव शुक्ल जी, श्री मनोज श्रीवास्तव जी, श्री गुरसेवक सिंह सेखों जी सहित 127 कार्यकर्त्ता इस बैठक में उपस्थित रहे।पश्चिमी क्षेत्र के संयोजक श्री उमेश देशमुख जी के धन्यवाद ज्ञापन के साथ बैठक का समापन हुआ।

इस अवसर पर राष्ट्रीय महामंत्री श्री पंकज गोयल द्वारा निम्नलिखित दायित्वों की घोषणा की गई –
श्री राम किशोर पसारी – प्रभारी, संगठन कार्य एवं उत्तर- पश्चिम क्षेत्र
श्री विजय शर्मा – प्रभारी, कार्यक्रम एवं उत्तर क्षेत्र
श्री नरसिंह मेंगजी – प्रभारी, संपर्क एवं दक्षिण क्षेत्र
श्री शिवाकांत तिवारी – प्रभारी, डाक्यूमेंट्स, नेपाल एवं उत्तर पूर्व क्षेत्र
श्री अनिल मोगा – प्रभारी, बैठक समन्वय एवं पश्चिम क्षेत्र
श्रीमती विशाखा सैलानी – प्रभारी, महिला विभाग
श्री जगदम्बा सिंह – प्रभारी, पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र
श्री वीरेंद्र अग्रवाल – प्रभारी, पश्चिमी उत्तर प्रदेश
श्री रविंद्र गुप्ता – प्रभारी, पूर्वी क्षेत्र
श्री खांडू थुंगन- संयोजक, पूर्वोत्तर क्षेत्र
श्री दिनेश भार्गव- अध्यक्ष मध्यभारत प्रांत
श्री हरि ओम भदोरिया – महामंत्री, कानपुर प्रांत
जगदम्बा सिंह (राष्ट्रीय प्रचार प्रमुख)
भारत तिब्बत सहयोग मंच (BTSM

Related posts

Leave a Comment